प्रशासन देखकर भी बना अनजान, प्राइवेट स्कूलों के वाहन, मासूमों की जिन्दगी से कर रहे हैं खिलवाड़:रिपोर्ट-नेहा वर्मा

0
7

 

ग्रामीण एडिटर धीरेन्द्र रायकवार

कसबे में चल रहे प्राइवेट स्कूल बच्चों की सुरक्षा के प्रति गंभीर नहीं दिख रहे। स्कूल वैनों में बच्चों को इस कदर ढूंस कर भरा जाता है कि बच्चे गर्मी में बिलबिला उठते हैं। वहीं वैन चालक बच्चों को उनके घर न छोड़ का घर से काफी दूर छोड़ देते हैं। जिससे बच्चों के साथ किसी हादसे से इनकार नहीं किया जा सकता है। एैसा ही एक मामला उस समय आया जब स्कूल वैन के चालक ने बच्चे को घर तक न छोड़ कर बीच रास्ते में ही उतार दिया।
कसबे में संचालित राइजिंग स्टार पब्लिक स्कूल का वैन चालक नर्सरी के एक छात्र को रास्ते में ही छोड़ कर भाग गया। रास्ता भटक कर मासूम स्टेट बैंक चौराहे पर खड़ा रो रहा था। जिसे देख कर वहां मौजूद धनन्जय सोनी ने मासूम को अपनी दुकान में बैठा कर उसे ढांढस बंधाया। बच्चे का नाम पता जानने के लिये स्कूल द्वारा दी गई डायरी को देखा तो उसमें नामपता लिखा ही नहीं गया था। मौके पर पहुंचे आसपास के दुकानदारों में से एक ने बच्चे को पहचान कर नगर के मुहाल मियांपुरा में रहने वाले उसके पिता मन्टू सोनी को सूचना दी। स्कूल डायरी में नम्बर देख कर विद्यालय प्रबन्धन को भी मामले की जानकारी दी गई। स्कूल प्रबन्धन व छात्र के पिता के मौके पर पहुंचने पर छात्र को परिजनों के हवाले कर दिया गया।

LEAVE A REPLY