A.S.वर्मा कानपूर ने ऐसी टेक्नोलॉजी विकसित की पूरे विश्व को होगा फायदा, एक बार देखे जरूर ! अरबो की होगी बचत ! विदेश में बचगे इस टेक्नोलॉजी ! देश में नहीं हे इज्जत !

0
171

झाँसी l अवस्कार वर्मा कानपुर : पूज्यनीय और भरोसेमंद हे यह कार्य l हमारे प्रधान मंत्री जी पेट्रोल और डीजल की खपत या पोल्लुशण के लिये चिंतित हैं और आप भी होंगे l उन्होने मन की बात में एक दिन हप्ते में बाहन न चलाने की हम भारत बासीओ से प्रार्थना की थी l मैं प्रधान मंत्री जी से कहना चाहता हूँ अगर बे खुद और आप मेरे सिर पर हाँथ रख दें तो कसम खाता हूँ की भारत माता की ..

भारत के सभी लोग अपने अपने व्हीकल्स भी चलाएंगे और तब भी 120 दिन का हर आदमी के AVRAGE में डीजल या पेट्रोल बच जायेगा  lपर अगर आज से कमर कस ली जाय तब भी 7 से 10 साल लग जायेंगे और इस टेक्नोलॉजी से पूरी U.P के नहीं पूरे भारत और फिर पूरी दुनियां से पोल्लुशन व्हीकल्स के द्वारा जो फैलाया जाता है उसमे 33% से ज्यादा कमी आएगी l डीजल और पेट्रोल भी 33% से 40% तक कम प्रयोग होगा l

इस कार्य से GLOBEL WORMING में ,33% की गिराबट आएगी हमारी भारत की जनता कैंसर, दमा, सिरदर्द जैसी बीमारियों से निजाद मिलेगी हमारे लोगों में खुशहाली आएगी बीमारी में पैसे कम खर्च करने पड़ेंगे तथा हर साल में 33% पेट्रोल के खर्च में कमी l हमारे जो शहर समुद्र के किनारे बसे हैं उनके डूबने का खतरा कम हो जाएगा l अब आप ये VEDIO देखे और अनुमान लगाएं अगर उसमे ना समझ आए तो अपना विस्वाशनीय टीम भेज कर सत्यापन करवाएं जिस से आप सब की चिंताएं जड़ से ख़त्म हों सकें l एक ऐसी दबा बना ली गयी है जिसको पूर्णतया प्रयोग 100% सफल है जिसके प्रयोग से करोड़ों लोगों की हर बीमारियां साथ साथ ठीक होने लगेंगी और इसका साइड इफेक्ट 0% है और जो 10 से 15. हजार लोग रोज भारत के अकाल मृतु मर जाते हैं नहीं मरेंगे और बे सभी 70000 हजार लोग जो रोज मरते हैं उनके एवरेज उम्र भी बढ़ जाएगी, दवाइओं पर होने वाले खर्चों से भी निजाद मिलेगी फिर लोग अपनी जिंदगी जी सकेंगे, खरबों रुपयों की दबाइयों निजाद मिलेगी, और जो बीमारियों का जो विस्वयुद् चल रहा है l उससे भी निजात मिलेगी l

ब तक सैकड़ों कारखानों में काम नहीं होगी तब तक भारत के एक अरब पैतीस करोड़ लोग भारत के और दुनियां के 8 अरब लोग कैसे लाभान्वित होंगे l इसके लिए संसार के सभी राष्ट्राध्यक्ष एक पर एक साथ पूरी कुब्बत के साथ प्रयाश करेंगे तब कही 5 से 7 साल लग जायेंगे सुधार आने में l हो सके तो मेरा भारत तो जी जान लगाके निर्माण करे l

रहस्य मई दवाई  l दोस्तो ये दवाई आयुर्वेद एलोपैथिक यूनानी या होमिओ पैथिक नहीं ये टेक्नोलॉजी है l सिक्स स्ट्रोक हाई ब्रीड मोनो कबुस्तिओं टेक्नोलॉजी है l इसमें सारे गुण कमाल के हैं l अगर संसार के सभी व्हीकल्स फोर स्ट्रोक से सिक्स स्ट्रोक हाई ब्रीड मोनो कबुस्तिओं टेक्नोलॉजी में बदल दिए जायँ तो हम अपना पूरा लक्ष्य प्राप्त कर लेगें l पहले भी टू स्ट्रोक टेक्नोलॉजी चलती थी अब बंद हो गयी ज्यादा खपत थी l पेट्रोल की अब जब फोर स्ट्रोक टेक्नोलॉजी नहीं बंद होती और सिक्स स्ट्रोक टेक्नोलॉजी को नहीं उतारा जाता तब तक भला होने वाला नहीं ये टेक्नोलॉजी पोल्लुशण और ग्लोवल वॉर्मिंग पर पूरा नियंत्रण करेगी और बीमारियों के सारे कारण भाग जायेंगे l जैसे जैसे हम प्रयाश करेंगे हमें जीत हांसिल होगी ये टेक्नोलॉजी पेटेंट हो गयी है जिसका NO.201711017778 जो जल्द ही INTERNET पर दिखाई देगी

l फायदा टेक्नोलॉजी का…..

40 के लगभग पेट्रोल या डीजल या C.N.G. कम खायेगी पोल्लुशण और ग्लोवल वॉर्मिंग अर्थात पृथ्वी का तापमान कम हो जायेगा l जिससे सारी बीमारिआं भागने लगेंगी उन पर होने वाला खर्चा बचेगा l रोजाना 40% जेब खर्च हर आदमी का बचेगा मृत्यु दर कम हो जाएगी पीछे लिखी सारी बीमारियां कम हो जाएँगी l जन मानष की उम्र बढ़ेगी, समुद्र के किनारे बसे लोग डूवने से बच जाएंगे दुनियां का पेट्रोल 40% ज्यादा दिनों तक चलेगा अर्थ व्यवस्था सुधरेगी, बस्तुएं सस्ती होने लगेंगी वातावरण में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ेगी l वाटर लेवल बढेगा और दुनियां में एक बार फिर हरित क्रांति आ जाएगी तथा प्रदूषण की बजह से जो युद्ध जैसे हालात हैं l से निजात मिलेगी बिदेश से दवाइयां और पेट्रोल के लिए हाँथ कम जोड़ने पड़ेंगे, लुटाई कम हो जाएगी l विदेशी मुद्रा बढ़ेगी मूलतया जो लोग अपना परिवार चलाने में असमर्थ थे समर्थ हो जायेंगे l

मारे P.M. को भी देश की चिंता सबसे ज्यादा उनको है l अगर ऐसा नहीं किया तो हो सकता की अगली बार विधान सभा में कानून पास हो जाय की हर आदमी 52 दिन साल में साइकिल चलाएगा तब क्या करोगे l इसको लगातार 365 दिन चलने पर भी 120 दिन के बराबर बचत कर लोगे तों बच जाओगे ये टेक्नोलॉजी में इंजन के द्वारा निकला धुंआ जिसमे बहुत प्रेशर और टेम्प्रेचर रहता है अगर दुबारा प्रयोग हो जाता है l इसी लिए ये कामयाब है l

कारन ये रहा !

सिस्टम ऑफ़ इंजिन्स l टू स्ट्रोक एक बार पेट्रोल लेता एक बार फायर करता एक चक्कर चलता फोर स्ट्रोक दो स्ट्रोक। एक बार पेट्रोल लेता,एक बार आग लगती है l एक चक्कर चलता है चार स्ट्रोक प्रौद्योगिकियों में l इंजन एक बार पेट्रोल लेता इंजन दो चक्कर काटना । एक बार आग करता । अब नई तकनीक में ध्यान से समझें कि दवाई क्या है l जो आपको मिलने वाली है या दी जाएगी छह स्ट्रोकेई हाई ब्रड मोनो दबशन टेक्नोलॉजी इसमें एक इंजन एक बार पेट्रोल लेता है और तीन चक्कर इंजन काटता है l पहली बार तो यह पहले दो चक्कर एक बार आग से पूरा हो गया है l चार स्ट्रोक से पूरे हो जाते हैं और जैसे ही चौथा स्ट्रोक धुआ आ निकलता है तुरंत पांचवां स्ट्रोक धूरे की बची पावर और गर्मी को पावर स्ट्रोके में बदलता है और छः स्ट्रोक में धुआं निकल कर पूरे सीओएस स्ट्रोक पूरा हो जाता है उसके बाद फिर पहले स्ट्रोक चालू हो जाता है l जिससे इस इंजन के तीन चक्कर में दो पावर स्ट्रोके हो जाते हैं l और अपना खोया हुआ ताकत प्राप्त करना है l सैलनेसर का तापमान 55 डिग्री से अधिक फुल स्पीड पर भी नहीं होता है l

ब आने वाले समय में अपने परिवार की रक्षा के लिए सबको मैसेज भेजें । जिस से अगली और कुछ अपने पीढ़ी का कल्याण हो पाए l ध्यान दें । यह भी पानी से भी चलने की प्रतिक्रिया में प्रयास रत है और यह भी बहुत शीघ्र पूरा होगा । और पेट्रोल की ज़रूरत नहीं पड़ेगी येटेक्नोलॉजी 100% प्रदूषण मुक्ति हो ! ! ! धन्यबाद ! ! ! A.S.VERMA 09336106564 09235404040

https://youtu.be/PF6ClZLOS60

https://www.youtube.com/watch?v=PF6ClZLOS60&t=185s

 ed-=Neeraj sahu -=-=-=-=–8052202032-=-=-=-=-=-=-